toolbar powered by Conduit

Pages

Welcome To Kesarwani samaj Online Magazine केसरवानी ऑनलाइन पत्रिका में आपका हार्दिक स्वागत है पत्रिका के सभी पाठकों को होली की हार्दिक शुभ कामनाएं
श्री गणेशाय नमः


Thursday, September 9, 2010

Poem: Nanhe Kopal, कविता: नन्हे कोपल

कविता: नन्हे कोपल 

नन्हे कोपल पीपल के 
अलसाये इठलाये से 
उग आये हैं टहनी पे 
देखो तो शर्माए से !

सूरज की पीली किरणों का 
करें सामना ये डट के  
चले बसंती मस्त पवन जब 
लहराए ये हौले हौले से ! 

निस दिन बढ़ते रहते 
जैसे हों मद मस्त गज 
जड़ से जुड़े रहे हमेशा 
ले माथे पे धूलि रज !

एक दिन बन जायेगा देखो 
कोपल का इक नव इतिहास 
झंझावत से सदा जूझते 
नन्हे कोपल को शाबाश  !

लेखक: रवि प्रकाश केशरी, वाराणसी

0 comments: