toolbar powered by Conduit

Pages

Welcome To Kesarwani samaj Online Magazine केसरवानी ऑनलाइन पत्रिका में आपका हार्दिक स्वागत है पत्रिका के सभी पाठकों को होली की हार्दिक शुभ कामनाएं
श्री गणेशाय नमः


Monday, October 20, 2008

भारतीय संस्कृति की कुछ जानकारियाँ

भारतीय संस्कृति की कुछ जानकारियाँ : हमे गर्व है कि हम भारतीय है। भारत की गौरवपूर्ण संस्कृति ने पूरे विश्व में अपना एक अलग स्थान बनाया है। आईये एक नज़र डालते है भारतीय संस्कृति की कुछ रोचक जानकारियों पर ...

चार वेद : ऋग्वेद, सामवेद, अर्थवेद, यजुर्वेद, ।
छः शास्त्र : वेदांग, सांख्य, योग, निरुक्त, व्याकरण, छंद ।
सात नदियाँ : गंगा, जमुना, गोदावरी, सरस्वती, नर्मदा, सिन्धु, कावेरी ।
अट्ठारह पुराण : गरुण पुराण, भागवत पुराण, हरिवंश पुराण, भविष्य पुराण, लिंग पुराण, पद्मा पुराण, बावन पुराण, कूर्म पुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण, मत्स्य पुराण, स्कन्द पुराण, ब्रह्म पुराण, नारद पुराण, कल्कि पुराण, अग्नि पुराण, शिव पुराण, विष्णु पुराण, वराह पुराण।
पंचामृत : दूध, दही, घी, शहद, शक्कर ।
पाँच तत्व : पृथ्वी, जल, वायु, आकाश, अग्नि ।
तीन गुण : सतोगुण, रजोगुण, तमोगुण ।
तीन दोष : वात, पित्त, कफ ।
तीन लोक : आकाश, पाताल, मृत्युलोक ।
सात सागर : क्षीर सागर, दुधी सागर, घृत सागर, पयान सागर, मधु सागर, मदिरा सागर, लहू सागर ।
सात द्वीप : जम्बू द्वीप, पलक्ष द्वीप, कुश द्वीप, शाल्माली द्वीप, क्रौंच द्वीप, शंकर द्वीप, पुष्कर ।
तीन देव : ब्रह्मा, विष्णु, महेश ।
तीन जीव : जलचर, नभचर, थलचर ।
तीन वायु : शीतल, मंद, सुगंध ।
चार वर्ण : ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र ।
चौदह भुवन : तल, अतल, वितल, सुतल, रसातल, पाताल, भुवलोक, भूलोक, स्वर्गलोक, मृत्युलोक, यमलोक, वरुण, सत्यलोक, ब्रह्मलोक ।
चार फल : धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष ।
चार क्षत्रु : काम, क्रोध, लोभ, मोह ।
चार आश्रम : ब्रह्मचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ, संन्यास ।
चार धाम : जगन्नाथ, रामेश्वर, द्वारका, बद्रीनाथ ।
पंचगव्य : दूध, दही, घी, गोबर, यज्ञ
अष्ट धातु : सोना, चांदी, ताँबा, लोहा, शीशा, कांसा, रांगा, पीतल ।
पाँच देव : ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश, सूर्या।
चौदह रत्न : अमृत, ऐरावत, हाथी, कल्पवृक्ष, कौस्तुभ मणि, उच्चैश्रवा, घोड़ा, शंख, चंद्रमा, धनुष, कामधेनु, धन्वन्तरी वैद्य, रम्भा, अप्सरा, लक्ष्मी, वारुणी, वृष ।
नौ निधि : पक्ष, महापक्ष, शंख, मकर, कश्यप, कुकुंद, मुकुंद, नील, बर्च ।
नवधा भक्ति : श्रवण, कीर्तन, स्मरण, पादसेवन, अर्चना, वंदना, मित्र, दास्य, आत्मनिवेदन ।

0 comments: